Tuesday, December 30, 2014

सिनेमा सौ करोड़ का...

पूंजी आती है,तो उसका महत्त्व और मूल्य भी घटता जाता है। विशेषकर फ़िल्म व्यवसाय के परिप्रेक्ष्य में तो पैसे का अवमूल्यन इन दिनों जग-जाहिर है। पहले अगर कोई फ़िल्म कुछ हफ्ते सिनेमाघरों में बिता लेती थी,तो उसे बड़ी उपलब्धि समझी जाती थी। तब फिल्मों की सफलता 'सिल्वर जुबली' या 'गोल्डन जुबली' के पैमाने पर मापी जाती थी। अधिक-से-अधिक दिनों तक सिनेमाघरों में ठीके रहना फिल्मों की सफलता का मापदंड था।...लेकिन अब एक-दो हफ्ते में होने वाले फ़िल्म व्यवसाय को उसकी सफलता से जोड़कर देखा जाता है। अब तो आलम यह है कि फ़िल्म की रिलीज़ के तीन-चार दिन ही उसका भविष्य तय कर देते हैं। शायद...इसकी वजह इन तीन-चार दिनों में फिल्मों के सौ करोड़ की कमाई का आंकड़ा छू लेने का ट्रेंड है। पिछले दिनों दीवाली के अवसर पर रिलीज़ हुई 'हैप्पी न्यू ईयर' ने तीन दिनों में ही सौ करोड़ की कमाई कर ली। अब यह फ़िल्म बेहद अभिजात्य 'दो सौ करोड़ क्लब' में भी शामिल हो चुकी है। दरअसल,इन दिनों हिंदी फ़िल्म इंडस्ट्री में ' सौ करोड़ी क्लब' में शामिल होना प्रतिष्ठा और सफलता का सबब बन गया है।

बदली तस्वीर
गौर करें तो बदलते वक़्त के साथ फिल्म निर्माण से लेकर फिल्म की मार्केटिंग के तरीकों में इस कदर बदलाव आया है कि अब फ्लॉप-हिट की परिभाषा धूमिल हो गई है। बड़े प्रोडक्शन हाउसों ने फ़िल्म व्यवसाय की पूरी तस्वीर बदल दी है। अब बड़े प्रोडक्शन हाउस के बैनर तले बड़े बजट में बननेवाली फिल्में एक साथ ढाई से तीन हजार प्रिंटों के साथ रिलीज होती हैं। धुंआधार प्रचार के साथ शुक्रवार को रिलीज होकर फ़िल्में रविवार के आखिरी शो तक नफा-नुकसान का हिसाब सिर्फ तीन दिन में ही तय कर डालती है। फ़िल्म की रिलीज़ के बाद दर्शकों को लुभाने के लिए प्रचार-प्रसार के नये और अनूठे तरीकों से कमाई के आंकड़े को बढ़ाने की कोशिश जारी रहती है और फिर वह दिन भी जल्द ही आ जाता है जब फ़िल्म की कमाई सौ करोड़ के आंकड़े को छू लेती है और 'सौ करोड़ क्लब' में शामिल हो जाती है।

कमाई के नए आयाम
पिछले कुछ वर्षों में फिल्मों की कमाई के कई नए आयाम उभरे हैं जिसने फ़िल्म व्यवसाय को नयी ऊंचाइयां दी हैं। दरअसल,अब फिल्मों की कमाई सिर्फ टिकट खिड़की पर नहीं होती है। फ़िल्म की कमाई का पचास प्रतिशत यदि 'डिस्ट्रीब्यूशन राइट' से आता है,तो तीस प्रतिशत सेटेलाइट्स राइट से आता है।  म्यूजिक राइट से फ़िल्म की पंद्रह प्रतिशत कमाई होती है जबकि शेष पांच प्रतिशत की कमाई टिकट विक्री से होती है। यह फ़िल्म की अतिरिक्त कमाई होती है जो टिकट बिक्री के साथ बढ़ती जाती है। फ़िल्म व्यवसाय के इन नए आयामों के ही कारण फ़िल्में रिलीज के पहले ही अपनी लागत वसूल कर ले रही हैं। यदि 'हैप्पी न्यू ईयर' का ही उदाहरण लें तो 150 करोड़ में बनी इस फ़िल्म ने रिलीज के पूर्व 202 करोड़ (डिस्ट्रीब्यूशन राइट-125 करोड़, सैटेलाइट राइट-65 करोड़ और म्यूजिक राइट- 12 करोड़) की कमाई कर ली थी। दरअसल, बड़े सितारों की फिल्मों की लागत का बड़ा हिस्सा अब सेटेलाइट अधिकार से निकल आता है। इसी वर्ष रिलीज़ हुई 'हॉलीडे' की कुल लागत 75-80 करोड़ थी। करीब 15 करोड़ रुपए मार्केटिग में खर्च किए गए। इस तरह 'हॉलिडे' के निर्माण में 90 करोड़ की पूँजी निवेश  की गयी जबकि फिल्म के सेटेलाइट राइट 39 करोड़ रुपए में बिके। `चेन्नई एक्सप्रेस' के सेटेलाइटल राइट 50 करोड़ में बेचे गए थे जबकि फिल्म का कुल बजट 105 करोड़ के करीब था।  120 करोड़ में बनी 'धूम 3' के सेटेलाइट अधिकार 70 करोड़ से अधिक में बिके थे। इन आंकड़ों से ज्ञात है कि सेटेलाइट राइट फिल्मों की बड़ी कमाई का सबसे कारगर माध्यम बन गए हैं।

टिकट,प्रिंट और थिएटर
फ़िल्म के व्यवसाय को बढ़ाने में टिकट की कीमत,प्रिंट की संख्या,फ़िल्म की रिलीज़ के लिए बुक किये गए थिएटरों की संख्या और रिलीज़ के समय का अहम् योगदान होता है। ट्रेड विशेषज्ञ कोमल नाहटा बताते हैं,'पहले जहां फ़िल्में 200 से 250 प्रिंट्स के साथ रिलीज़ होती थीं वहीं आज धूम-3 जैसी फ़िल्में 4,500 प्रिंट्स के साथ रिलीज़ होती हैं। टिकटों की क़ीमत भी 10-15 रुपए से बढ़कर अब 500 रुपए या इससे भी ज़्यादा पहुंच चुकी है।' दरअसल,मौजूदा दौर में फ़िल्म टिकट की औसत कीमत 160 रुपये हो गयी है। जैसे-जैसे टिकट की कीमत बढ़ती है,फ़िल्म की कमाई भी बढ़ती जाती है। ठीक वैसे ही फिल्म जितने अधिक प्रिंट के साथ रिलीज होती हैं, उतनी ही अधिक कमाई करती हैं। यदि फिल्मों की रिलीज़ के लिए अधिक-से-अधिक थिएटर बुक किये जाते हैं,तो फ़िल्म की रिलीज़ के समय जुड़े दर्शकों के शुरूआती उत्साह के कारण कमाई भी अधिक होती है क्योंकि रिलीज़ के तुरंत बाद दर्शक अधिक-से-अधिक संख्या में सिनेमाघरों में पहुँचते हैं। त्योहारों की छुट्टियों के दौरान रिलीज़ भी फ़िल्म की कमाई के आंकड़ों को बढ़ाने में अहम् योगदान देती है। गौर करें तो सौ करोड़ क्लब में शामिल अधिकांश फ़िल्में त्योहारों के दौरान ही रिलीज़ हुई हैं।

हकीकत या शगूफा
करोड़ी क्लब में शामिल होने का दबाव दिन-ब-दिन बढ़ता जा रहा है। हर निर्माता,निर्देशक,अभिनेता और अभिनेत्री इस क्लब का हिस्सा बनकर अपना गुणगान कराना चाहता है।  इस ट्रेंड के कारण ही कई बार निर्माता-निर्देशक अपनी फिल्मों की कमाई के आंकड़ों को तोड़-मरोड़कर पेश करते हैं और रिलीज़ होते ही अपनी फ़िल्म को सौ करोड़ी क्लब में शामिल करने की जद्दोजहद में जुट जाते हैं। यही वजह है कि इन दिनों सौ करोड़ क्लब की फिल्मों की कमाई को संदेह की दृष्टि से भी देखा जाने लगा है। निर्माता अपनी फिल्मों की कमाई को इतना बढ़ा-चढ़ाकर दिखाने लगे हैं कि अब करोड़ी क्लब की फिल्मों की कमाई के हकीकत पर भी प्रश्नचिह्न उठने लगे हैं। निर्देशक बासु चटर्जी कहते हैं,'किसी फिल्म की सफलता-असफलता को 'सौ करोड़ क्लब से जोडऩा बिलकुल गलत बात है। सही का सवाल ही नहीं उठता। ये तो फिल्मकारों की बातें हैं। इसमें कुछ तथ्य नहीं है। भारतीय सिनेमा में 'सौ करोड़ क्लब कल्चर एक प्लेग की बीमारी की तरह है।' सौ करोड़ क्लब की फिल्मों के पहले अभिनेता आमिर खान का यह बयान इस सन्दर्भ में बेहद प्रासंगिक है जिसमें उन्होंने कहा है,'बहुत सारी फिल्मो को सुपरहिट कहा जाता है लेकिन जरूरी नहीं हैं कि वे सुपरहिट हों। फिल्मों की कमाई के आंकड़े निर्माता और सितारे देते हैं।मैं जनता को बताना चाहूंगा कि 99 प्रतिशत आंकड़े फर्जी दिए जाते हैं। आंकड़ों को बढ़ा चढ़ाकर बताया जाता है।  हकीकत में बिजनेस से जुड़े लोगों को सही आंकड़ा पता होता है। हमको मालूम है कि वास्तव में फिल्म का कितना धंधा हुआ है। कई बार फिल्म को आडियंस नकार देती है। उनका बिजनेस ठीक नहीं होता तब भी उसे बढ़ा चढ़ाकर बताया जाता है। मैं इतना बता सकता हूं कि लोगों को जब फिल्म पसंद नहीं आती है तो चलती नहीं है। सही आंकड़ों के लिए सर्तकता बरतना जरूरी है। दरअसल, सब लोग जल्दबाजी में रहते हैं। चाहते हैं कि उनकी कमाई के आंकड़े जल्द से जल्द प्रकाशित हो जाएं।' आमिर खान के इस बयान से काफी हद तक जाहिर हो गया है कि 'सौ करोड़ क्लब' की हकीकत संदेह के घेरे में है।

कला या कारोबार!
सौ करोड़ क्लब के तथाकथित अभिजात्य फ़िल्म निर्माता-निर्देशकों ने व्यावसायिकता से प्रेरित फिल्मों के निर्माण को अधिक तरजीह दी है जिस कारण फिल्मों का कला-पक्ष उपेक्षा का शिकार हो रहा है। इस पूरे ट्रेंड से अर्थपूर्ण और कलात्मक फिल्मों के निर्देशक हतोत्साहित हो रहे हैं। उन्हें अपनी फ़िल्म के निर्माण के लिए आर्थिक सहयोग मिलने में तकलीफ हो रही है क्योंकि अधिकांश निर्माताओं का लक्ष्य 'सौ करोड़ी क्लब' की उम्मीदवार फिल्मों का निर्माण करना बन गया है। वे बड़े सितारों वाली फार्मूला फिल्मों के निर्माण में व्यस्त हैं। यदि कोई प्रतिष्ठित निर्माता प्रयोगधर्मिता से प्रेरित होकर कलात्मक और मुद्दे पर आधारित फ़िल्म बनाता भी है,तो उसे 'सौ करोड़ी क्लब' में शामिल होने के उद्देश्य से बनायी गयी फ़िल्म से मुकाबला करने के लिए तैयार होना पड़ता है। इस मुकाबले में अक्सर उसकी हार होती है क्योंकि उसकी फ़िल्म के मुकाबले 'सौ करोड़ी क्लब' में शामिल होने के लिए तैयार फ़िल्म धुआंधार प्रचार के बाद अधिक प्रिंटों के साथ अधिक सिनेमाघरों में रिलीज़ होती है। दशहरा के मौके पर रिलीज़ हुई 'हैदर' और 'बैंग बैंग' का ही उदहारण लें। जहां 'हैदर' का कलात्मक पक्ष अधिक हावी था,वहीँ 'बैंग बैंग' व्यावसायिक सिनेमा के सारे गुणों से भरपूर था। हालांकि समीक्षकों और दर्शकों की नजर में 'बैंग बैंग' की तुलना में 'हैदर' कहीं बेहतरीन फ़िल्म थी,मगर 'सौ करोड़ी क्लब' में शामिल हुई-'बैंग बैंग'। इसकी वजह थी 'बैंग बैंग' की बड़े पैमाने पर रिलीज़। यह सच है कि 'बैंग बैंग' अधिक सफल रही,मगर ऐसी फ़िल्में कुछ ही दिनों में दर्शकों की यादों से धूमिल हो जाती है...वहीँ दूसरी तरफ 'हैदर' जैसी फिल्मों के हर दृश्य की यादें सिनेप्रेमियों के दिलों में बस जाती हैं। कोमल नाहटा कहते हैं,'दर्शकों की याददाश्त कमज़ोर हो रही है। फ़िल्म कितनी भी बड़ी ब्लॉकबस्टर क्यों ना हो..लोग दो-तीन हफ़्ते में उसे भूल जाते हैं। फ़िल्म अच्छी हो तो वह कारोबार करने के साथ-साथ लंबे समय तक याद रखी जाएगी।'
हिंदी फिल्मों के बेहतर भविष्य के लिए जरुरी है कि फिल्मों के निर्माण में उसके कलात्मक पक्ष और व्यावसायिक पक्ष के बीच संतुलन बनाया जाए....तभी फ़िल्में 'सौ करोड़' लोगों के दिलों में सौ वर्षों तक रह पाएंगी...वरना 'सौ करोड़ क्लब' का हिस्सा होने के बाद भी सौ से कम दिनों में भूला दी जाएंगी।

-सौम्या अपराजिता

करोड़ क्लब-तथ्य
-सौ करोड़ क्लब में वे फ़िल्में शामिल हैं जिन्होंने भारतीय बाजार से सौ करोड़ रुपये या इससे ज्यादा का कारोबार किया है।
-सौ करोड़ क्लब में अब तक 34 फ़िल्में शामिल हो चुकी हैं। इनमें से छह फिल्मों की कमाई ने दो सौ करोड़ का आंकड़ा पार कर लिया है।
-करोड़ क्लब की शीर्ष फ़िल्म है 'धूम 3'। इसने लगभग 280.25 करोड़ रुपये का कारोबार किया है।
-सौ करोड़ क्लब की अधिकांश फिल्मों के नायक सलमान खान हैं। उनकी सात फिल्में (एक था टाइगर, दबंग 2, दबंग, रेडी, बॉडीगार्ड, जय हो और किक) इस क्लब में शामिल हैं।
दो सौ करोड़ क्लब-
धूम 3
कृष 3
किक
चेन्नई एक्सप्रेस
3 इडियट्स
हैप्पी न्यू ईयर
पीके
सौ करोड़ क्लब-
एक था टाइगर
ये जवानी है दीवानी
बैंग बैंग
दबंग 2
बॉडीगार्ड
सिंघम रिटर्न्स
दबंग
राउडी राठौड़
जब तक है जान
रेडी
गलियों की लीला-रासलीला
जय हो
अग्निपथ
रा.वन
गज़नी
हॉलिडे
बर्फी
भाग मिल्खा भाग
डॉन2
गोलमाल 3
हाउसफुल 2
एक विलेन
सन ऑफ सरदार
बोल बच्चन
टू स्टेट्स
ग्रैंड मस्ती
रेस 2
सिंघम

6 comments:

  1. Nice Article sir, Keep Going on... I am really impressed by read this. Thanks for sharing with us. Govt Jobs.

    ReplyDelete
  2. बहुत ही अच्‍छी पोस्‍ट।

    ReplyDelete
  3. your blog posts are very good , and also your writing skills are amazing , this is a very nice post keep it up http://www.shotat17.com

    ReplyDelete
  4. Start self publishing with leading digital publishing company and start selling more copies
    SELF PUBLISHING INDIA|

    ReplyDelete
  5. आज कल फिल्में सिर्फ पैसे कमाने का जरिया हो गयी है ...

    ReplyDelete

आपकी टिप्पणियों का स्वागत है...